• Thu. Apr 18th, 2024

हरिद्वार की जानी-मानी डॉक्टर साहिबा संध्या शर्मा के खिलाफ हुआ मुकदमा दर्ज जानिए क्या है पूरा मामला

BySANAT SHARMA

Feb 29, 2024

हरिद्वार की जानी-मानी डॉक्टर साहिबा संध्या शर्मा के खिलाफ हुआ मुकदमा दर्ज । जानिए क्या है पूरा मामला

कोविड महामारी ने एक तरफ जहां पूरी दुनिया को झकझोर कर रख दिया था ,वही महामारी के समय भी कुछ लोग आपदा में अवसर ढूंढने में पीछे नहीं रहे,ऐसा ही एक ताजा मामला हरिद्वार से आया है जहां हरिद्वार के रानीपुर मोड़ स्थित एक प्रसिद्ध और नामचीन नोवस पैथोलॉजी लैब(Novus Path Labs HARIDWAR) द्वारा 2021 में कुंभ मेले के दौरान कोरोना की फर्जी एंटीजन तथा आरटीपीसीआर जांच करने तथा रिपोर्ट के नाम पर लगभग ढ़ाई करोड़ रुपए का घोटाला करने का E.D ने भंडाफोड़ किया है।

2019 में फैली कोरोना महामारी ने सम्पूर्ण विश्व की मेडिकल साइंस को हिला कर रख दिया था,भारत में भी रोकथाम के लिए सरकार द्वारा जारी गाइडलाइंस में विभिन्न संस्थानों में कार्यरत कर्मचारियों के लिए,एक राज्य से दूसरे राज्य में ट्रैवलिंग करने के लिए तथा महामारी के दौरान आयोजित हुए हरिद्वार महाकुंभ 2021में शामिल होने के लिए व अन्य भीड़भाड़ वाली गतिविधियों में शामिल होने के लिए कोरोना की जांच का नेगेटिव सर्टिफिकेट होना आवश्यक कर दिया था,उसी दौरान कोरोना का फर्जी जांच का फर्जी रिपोर्ट जारी कर नोवस पैथोलॉजी लैब (Novus Path Labs HARIDWAR) द्वारा आर्थिक लाभ कमाते हुए सरकारी राजस्व को करोड़ों का चूना लगाया।

2021 कुंभ के दौरान ही फर्जी आरटीपीसीआर/एंटीजन टेस्ट करने की बात सामने आने पर मैक्स कॉरपोरेट सर्विस कुंभ मेला व नलवा लैबोरेट्री प्राइवेट लिमिटेड हिसार एवं लालचंदवानी पैथ लैब के विरुद्ध कोतवाली नगर में मुकदमा दर्ज किया गया था तथा अवैध व अनैतिक रूप से धन कमाने की बात प्रकाश में आने पर प्रवर्तन निदेशालय द्वारा संबंधित लैब में छापा मारा गया था तथा लैब के विरूद्ध पीएमएलए (prevention of money laundering act ,2002) के तहत जांच प्रारंभ की गई थी।

अब E.D(प्रवर्तन निदेशालय) ने मनी लांड्रिंग एक्ट के तहत जांच में पाया की नोवस पैथोलॉजी लैब हरिद्वार (Novus Path Labs HARIDWAR) द्वारा भी कोविड़ की एंटीजन तथा आरटीपीसीआर टेस्ट के दौरान फर्जीवाड़ा किया गया तथा खुद 2 करोड़ 41 लाख से अधिक का आर्थिक लाभ कमाते हुए सरकारी राजस्व को चुना लगाया है।

उक्त प्रयोगशाला के आईसीएमआर डेटा की जांच करने पर यह तथ्य सामने आये कि इस लैब द्वारा किए गए जांचों के सबंध में आईसीएमआर पोर्टल पर की गई ज्यादातर प्रविष्टियाँ जाली प्रतीत होती है, जो संचालक Novus Path Labs HARIDWAR तथा उक्त लैब की पार्टनर हरिद्वार की में भारी नुकसान हुआ है।

इसी संदर्भ में E.D की रिपोर्ट प्राप्त होने के बाद एसएपी हरिद्वार द्वारा मामले पर संज्ञान लेते हुए Novus Path Labs रानीपुर मोड थाना ज्वालापुर हरिद्वार के संचालक व पार्टनर संध्या शर्मा आदि के विरुद्ध पर थाना ज्वालापुर पर मुकदमा पंजीकृत किया गया।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *